Browsing Category

TODAY’S THOUGHT

” बुराई और अच्छाई के परिणाम”

संसार में हम दो प्रकार के लोग देखते हैं। जैसे बहुतसे लोग अच्छाई और भलाई के काम करने के लिये सदा ही तैयार रहते हैं। और कुछ लोग ऐसे होते हैं की, ठटटा करना, नींदा करना, गपशप करना, लोगों को दुःख देना, उनके घावों को कुरेदना, ये सब दुष्ट

“परमेश्वर का मार्ग अपनाना”

हम सब मनुष्य के सामने हमेशा दो मार्ग होते हैं। यह हमे तय करना हैं, की हम किस मार्ग पर चले। जब हमारे जीवन में, समस्या आती हैं, दुःख आता हैं, चिंताए आती हैं, तो हम परमेश्वर की और से मन फिराते हैं। और संसार मे अपने सुख को दूँढते हैं। आप जानते

आशीष की चाबी

आशीष हमारे पास ही हैं। और उसकी चाबी वह है जो "विश्वास"। विश्वास एक एसी चाबी है, की हमारे हर एक बंद दरवाज़े को खोलती है। हमे पूरे मन से आपने परमेश्वर पर विश्वास करना चाहिये। क्योंकि विश्वास बिना उसे प्रसन्न करना अनहोना है। वह कहता है की उसे

विशेष पारिवारिक समय

फसह के पर्व से पहले जब येशु ने जान लिया,की मेरी वह घड़ी आ पहूंची है कि जगत छोड़कर पिता के पास जाऊँ, तो अपने लोगों से,जो जगत में थे,जैसा प्रेम वह रखता था,अन्त तक वैसा ही प्रेम रखता रहा।(यूहन्ना १३:१) हम अपने परिवार के सदसयों के साथ

परमेश्वर का प्रेम

आकाश और पृथ्वी का कर्त, आदि और अंत, अल्फा और ओमेगा,मार्ग सतय और जीवन,जो है वह हमारा परमेश्वर है। वह सारी सृषिटी का रचनेवाला,सर्वशक्तिमान,सर्व सामर्थ, राजा ओ का राजा,प्रभु ओ का प्रभु हमारा जीवित खुदा है।हुमे उसने अपने पवित्र हाथो से

जीवनरुपी देह का मंदिर पवित्र रखने के लिये सात सूत्र:-

1.(प्रार्थना) निरंतर प्रार्थना करे। प्रार्थना कि शुरूआत :-उत्पत्ति 4:25 मरकुस 13:33:-देखो, जागते और प्रार्थना करते रहो; क्योंकि तुम नहीं जानते कि वह समय कब आएगा। मत्ती 26:41:-जागते रहो, और प्रार्थना करते रहो, कि तुम परीक्षा में न पड़ो!

मसीह ने मृत्यु को हराया।

"हर एक प्राणी घास के समान है, और उसकी सारी शोभा घास के फूल के समान है। घास सुख जाती है,और फूल जड़ जाता है,(१पतरस 1:24) आज किसीको भी देखते है,हर कोई सुन्दर,खूबसूरत, शकितशाली,प्रभावशाली या लोकप्रिय होता है,वे एक दिन घास के तरह मुरजा जाते
error: Content is protected !!