यीशु मसीह के द्वारा विजय

0 512

- Advertisement -

परमेश्वर का धन्यवाद हो, जो हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा हमें जयवन्त करता है।

1 कुरिन्थियों 15:57
प्रिय,मसीह में आपको जय मसीह की। अगर आप आज का वचन ग्रहण करते हो तो आप हर क्षेत्र में जीतोगे, कोई भी बुरी ताकत आपको हरा नहीं पाएगी लेकिन इससे पहले आपको अपने हृदय में यह बसाना है कि यीशु मसीह आखरी कुंजी है एक आखरी उपाय है परमेश्वर के साथ अनन्त जीवन में प्रवेश करने और जीने के लिए। और कोई दूसरा रास्ता नहीं। बहुत लोग कई प्रकार की असफल कोशिश करते है परमेश्वर से मेल मिलाप के लिए। उनकी कोशिश इसलिए असफल रहती क्योंकि वे सही जगह कोशिश नहीं करते। जब तक आप सही बस नहीं पकड़ते आप सही मंज़िल नहीं पहुंचेंगे। कई सारे सिर्फ यहोवा परमेश्वर पर विश्वास करते है और कई नबायों को मानते है यीशु मसीह से उनका कोई लेना देना नहीं। आपको प्रोसेस को समझना ज़रूरी है जब कोई सरकार नए नियम बनाती तो वो पुराने नियम नहीं मानती। क्योंकि उन्हें नई नीति के अनुसार कार्य करना पड़ेगा। वैसे ही जब यीशु मसीह आपके लिए एक नई व्यवस्था को लेकर आए, एक नया नियम लेकर आए, एक नया तरीका लेकर आए जिससे आप उस अनन्त जीवन में दाखिल हों, और आप स्वर्ग आएं, आपके लिए यीशु मसीह एक नया रास्ता है आपको यीशु मसीह के अनुसार चलना पड़ेगा, क्योंकि वो आपके लिए नया नियम है। इसका मतलब यह नहीं कि परमेश्वर का पुराना अस्तित्व खत्म हो गया है पर आपके लिए नियम व शर्तें वही नहीं रही बदल चुकी है पर अस्तित्व वही है जो था क्योंकि वो कभी बदलने वाला परमेश्वर नहीं। आपके लिए यीशु मसीह एक चाबी है स्वर्ग में प्रवेश करने के लिए। आमीन। अगर आप अभी भी असमंजस में है आज ही सब कुछ छोड़कर यीशु मसीह के पीछे ही लो जीवन तो उसके पास है, हालांकि पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा एक ही है लेकिन आप किसे फॉलो करे ? आपको यीशु मसीह को फॉलो करना है आप अपने आप ही तीनों को फॉलो करेंगे। आपको तीनों का आदर करना क्योंकि तीनों एक ही है लेकिन आपका रास्ता यीशु मसीह है आपको अपने रास्ते से नहीं हटना। एक असली मसीह कभी भी गलत फहमी में नहीं जीता उसे मालूम होता कि वो कभी कभी गलत कदम न उठाए। यीशु मसीह के नाम से आज आपका रास्ता मैं आपको सौंपता हूं। यीशु मसीह के नाम से अपनी मंज़िल हासिल करो। मसीह में बलवंत बनो।आमीन।

Comments
Loading...