महिमा के लिए बुलाहट

0 12

- Advertisement -

यह कहकर यीशु ने बड़े शब्द से पुकारा, कि हे लाजर, निकल आ। जो मर गया था, वह कफन से हाथ पांव बन्धे हुए निकल आया और उसका मुंह अंगोछे से लिपटा हुआ तें यीशु ने उन से कहा, उसे खोलकर जाने दो॥
यूहन्ना 11:43

मसीह में आपको जय मसीह की। मसीह में मेरे प्रिय भाइयों/बहनों, बहुत बार कई लोग असमंजस में रहते हैं लेकिन उन्हें पता भी नहीं होता कि वे भ्रम में हैं। बहुत बार आप सीखते और सीखते होंगे कि आपको परमेश्वर की महिमा के लिए चुना और बुलाया गया है, यह बिल्कुल सत्य है और मैं इसे नकारता नहीं पर कई बार मनुष्य खुद से या जैसा उसको (मनुष्य को) भाता वैसा करता है मतलब आज कोई भी यह कह लेता है कि मैं परमेश्वर की महिमा के लिए यह कर रहा हूं मुझे परमेश्वर द्वारा पादरी, अगुवा, भविष्यवक्ता, प्रेरित और प्रकाशन के तौर पर नियुक्त किया गया है और वे खुद ही अपना अभिषेक इस काम के लिए करते हैं और निष्फलता को अपने जीवन में आमंत्रण देते हैं। आपको इनके जैसा नहीं बनना आपको धीरज से परमेश्वर की बुलाहट का इंतज़ार करना है। जब वो आपको सेवकाई के लि
ए बुलाएगा तो आप निष्फल नहीं रहेंगे और आपके द्वारा और आप साथ अपने अदभुत व असंभव कामों द्वारा अपनी महिमा लोगों में प्रगट करेगा। तब आप अपने लिए मर चुके होंगे और आप उस नए व अनंत जीवन की बाट जोहेंगे। अपनी बुलाहट को पहचानना है। गलत बुलाहट की रीति अपने आप को निष्फल जीवन की ओर नहीं ले जाना, पर उसकी सेवकाई व बुलाहट को पहचानना है। वो कभी भी आपको शर्म वाली,निराशा, असफल दुःखी व नीची ज़िन्दगी जीने के लिए नहीं बुलाएगा पर वो आपको टॉप लेवल वाली जिंदगी जीने के लिए बुलाएगा और आपके जीवन से हमेशा से जीवन जल की नदियां बहेगी आप दूसरों के लिए भी हमेशा आशीष का कारण बनेंगे। मैं घोषणा करता हूं आपकी बुलाहट की सही पहचान के लिए, आपकी बंद आंखे आज यीशु मसीह के नाम में खुल जाए आप सीधा देखें, आप यीशु मसीह के नाम में स्वर्गीय सेवकाई और स्वर्गीय बुलाहट पाए। उसका अनुग्रह और दया आप सब पर होती रहे।

आमीन।

Comments
Loading...
error: Content is protected !!