हमारा सहायक

0 14

- Advertisement -

क्योंकि जब उस ने परीक्षा की दशा में दुख उठाया, तो वह उन की भी सहायता कर सकता है, जिन की परीक्षा होती है॥
इब्रानियों 2:18

मसीह में आपको जय मसीह की। प्रिय मित्र, मसीह जीवन में हमें बहुत सी परीक्षाओं से होकर गुजरना पड़ता है। और यही परीक्षा हमें जीत और हार का अनुभव करवाती है। जिससे हम बढ़ते व घटते मालूम होते हैं। परीक्षा का आना स्वभाविक और आवश्यक है। कई लोग परीक्षा से हारकर शैतान की गुलामी करते हैं, मेरा मतलब बुरे कामों में लगते हैं, फिर से दलदल में धंसते चले जाते हैं जिससे वे निकले थे। जब आप किसी भी परीक्षा में होते हैं तो आप यह समझें कि यह आपके टेस्ट का समय है और यह टैस्ट परमेश्वर के साथ रिश्ते का प्रमाण होगा। जब तक आप परीक्षा में नहीं पड़ेंगे तब तक आप उसकी संतान नहीं। जब तक आप परखे नहीं गए तब तक आप नाजायज संतान कहलाएंगे। यीशु मसीह भी परीक्षा से होकर गुजरे और विजय हासिल की, आप भी वचन के अनुसार परमेश्वर से सहायता पाओगे। अगर आप डटे रहे तो। आप विजय हासिल करोगे यीशु मसीह के नाम से। मैं आपको विजयी घोषित करता हूं यीशु मसीह के नाम से। आप हर क्षेत्र में जीत हासिल करने वाले हो अगर आ
पका आधार परमेश्वर है। मसीह में आपको अनुग्रह और शांति मिलती रहे। आमीन।

Comments
Loading...
error: Content is protected !!