परमेश्वर कभी बदलेगा नहीं

0 19

- Advertisement -

क्योंकि मैं यहोवा बदलता नहीं; इसी कारण, हे याकूब की सन्तान तुम नाश नहीं हुए।
मलाकी 3:6

मसीह में आपको जय मसीह की, प्रिय मित्र आधुनिक मसीह युग में ज़्यादातर मसीह को जानने वाले जो सही से जीवित मसीह को नहीं जानते वे भ्रम में और झूठी शान सी मसीह में अच्छी पदवी लेना चाहते हैं उन्हें परमेश्वर से कोई लेना देना नहीं, जो बातें , काम वे हासिल नहीं कर सकते उनके लिए वे कहते हैं कि अब कोई भी सेवकाई नहीं रही और वे अपने जीव
न काल के कामों को सेवकाई में शामिल कर परमेश्वर को त्यागते है, भूल जाते हैं और उनके लिए इज्ज़त और दौलत कमाना सेवकाई बन जाता है और वे लोगों को भटकाना और उन्हें परमेश्वर से दूर करने का काम करते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि वे परमेश्वर को सही से पूरी तरह जानने में धोखा खा जाते हैं। वे अपने पुराने अनुभव को सेवकाई का हिस्सा बना लेते हैं लेकिन वो परमेश्वर के दासों का और खुद परमेश्वर का अनुभव नहीं लेते, वे अपने पुरानी पापी व बुरी ज़िन्दगी का अनुभव लेकर अपने आप को नष्ट कर रहे हैं। वे यह भी जानते हैं कि परमेश्वर कभी बदलता नहीं वो अपने कहे गए वचन के अनुसार कार्य करेगा, जो उसके वचन को आदर्श मानेगा उसके साथ उसका समर्थी पक्ष बना रहेगा पर लोग हमेशा बदलते जाते हैं अपने किए गए वादों के लिए वफादार नहीं रहते हैं, लोग अपनी रीतियों को मानना चाहते हैं और परमेश्वर को भी, लेकिन असलियत में परमेश्वर को नहीं मानते, अगर आप उसके वचन को जानते व मानते हैं तो आप वचन के अनुसार आशीष, पक्ष व सुरक्षा,ज्ञान और शुद्ध विवेक भी पाएंगे। अगर आप उसके वचन को नहीं मानते तो कहा गया है मूर्ख कहता है कोई परमेश्वर है ही नहीं। मसीह में आपको अनुग्रह और शांति मिलती रहे।

आमीन।

Comments
Loading...
error: Content is protected !!