परमेश्वर पर ध्यान केन्द्रित करने के लिए प्रतिदिन समय निकालें

0 51

- Advertisement -

जो मुझ में बना रहता है, वह बहुत फल फलता है,
क्योंकि मुझ से अलग होकर तुम कुछ भी नहीं कर सकते।
यूहन्ना 15:5

हमारे लिए प्रतिदिन परमेश्वर पर ध्यान केन्द्रित करना अति महत्वपूर्ण है। कुछ लोग इसे “मौन समय” कहते हैं। अन्य लोग इसे “भक्तिमनन” कहते हैं, क्योंकि यह ऐसा समय होता है जब हम स्वयं को परमेश्वर के प्रति समर्पित करते हैं। कुछ लोग इस समय को प्रातःकाल में अलग करते हैं, जबकि कुछ लोग इसके लिए सायंकाल के समय को प्राथमिकता देते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप इस समय को क्या कहते हैं और इसे कब करते हैं। जो बात महत्वपूर्ण है वह यह है कि आप नियमित रूप से परमेश्वर के साथ समय व्यतीत करें। कौन सी बातें मिलकर परमेश्वर के साथ हमारे समय को बनाती हैं?प्रार्थना – प्रार्थना सरल तरीके से परमेश्वर से बात करना है। अपनी चिंताओं तथा समस्याओं के विषय में परमेश्वर से बात करें। परमेश्वर से आपको ज्ञान और मार्गदर्शन देने के लिए कहें। अपनी आवश्यकताओं की प्राप्ति के लिए परमेश्वर से कहें। परमेश्वर को बताएं कि आप उससे कितना अधिक प्रेम करते हैं, और जो कुछ वह आपके लिये करता है उसके लिए आप उसको कितना सराहते हैं। इन्हीं सब बातों को प्रार्थना कहते हैं।बाइबल का पठन् करना – कलीसिया में, सन्डे स्कूल, और/या बाइबल अध्ययन की कक्षाओं में बाइबल की शिक्षा लेने के अतिरिक्त आपको स्वयं के लिये भी बाइबल का पठन् करने की आवश्यकता है। बाइबल में एक सफल मसीही जीवन यापन करने के लिये वह सारी सामग्री दी गई है जिसे आपको जानने की आवश्यकता है। इसमें परमेश्वर का वह मार्गदर्शन दिया गया है कि कैसे सही निर्णयों को लिया जाए, कैसे परमेश्वर की इच्छा को जानें, दूसरों की देखभाल कैसे करें और आत्मिक विकास कैसे करें। बाइबल हमारे लिए परमेश्वर का वचन है। हम अपने जीवन को आवश्यक रूप से किस तरीके से यापन करें इसके लिए बाइबल परमेश्वर की निर्देश पुस्तिका है जिस से कि वह प्रसन्न हो जाए और हम सन्तुष्टि पायें। यीशु मसीह के नाम में आप आशीष पाएं।आमीन।

मसीह में आपका भाई
अरुण प्रदीप

Comments
Loading...
error: Content is protected !!