मसीह ने मृत्यु को हराया।

0 291

- Advertisement -

“हर एक प्राणी घास के समान है, और उसकी सारी शोभा घास के फूल के समान है। घास सुख जाती है,और फूल जड़ जाता है,(१पतरस 1:24)

आज किसीको भी देखते है,हर कोई सुन्दर,खूबसूरत, शकितशाली,प्रभावशाली या लोकप्रिय होता है,वे एक दिन घास के तरह मुरजा जाते है।

पवित्र शास्त्र प्राणी की तुलना घास से क्यों करती है?

घास सबसे कमजोर पौधे में से एक है और थोडी हवा सहित थोड़े दबाव में झुक सकती है। इससे इंसान की कमजोरी का वर्णन किया गया है

काफी समय पहले आयुब ने पूछा था,”यदि मनुष्य मर जाए तो क्या वे फिर जिवित होगा?”(अयूब१४:१४)

क्या कोई उम्मीद(आशा) है?
येशु मसीह के पुनरुत्थान में,हमारे पास अयूब के प्रश्न का उत्तर है जो कई लोगों दौरा पूछा गया है।पवित्र शास्त्र बताती है की क्योंकि मसीह जीवित है,हम भी जीवित होंगे। सबसे बड़ी सचाई यह है की येशु मसीह मर गया,लेकिन फिर से जी उठा और आप और में भी मार जाएंगे,लेकिन फिर से जीवन के नयापन में जीवीत हो जायेंगे।

अंगीकार:-
अपने प्रभु येशु मसीह के परमेश्वर और पिता की स्तुति हो।उनकी महान दयासे उन्होंने हमे मृत्यु में से येशु मसीह के पुनरुत्थान के माध्य्म से एक नया जीवन आशा में जन्म दिया है।

Comments
Loading...
error: Content is protected !!