कोरोना वायरस: खतरनाक स्तर तक पहुंचा कोरोना, भारत में कम्यूनिटी ट्रांसमिशन शुरू? सरकार ने दिया ये जवाब

0 11

- Advertisement -

BY MANOJ KUAMR

नई दिल्ली : एक दिन में कोरोना सबसे ज्यादा 3900 नए मरीज मिलने से सरकार में हड़कम्प मचा हुआ है। कुछ लोग सवाल उठा रहे हैं कि क्या भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन शुरू हो गया है। क्या भारत में कोरोना वायरस खतरनाक स्तर तक पहुंच गया है? इन सवालों पर स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने न तो इस बात को माना और न ही इनकार किया। लव अग्रवाल से मीडिया ने पूछा कि बीते 24 घंटे में इतनी मौतों से क्या समझा जाए कि क्या कोरोना वायरस का कम्यूनिटी ट्रांसमिशन हो चुका है। इस सवाल पर लव अग्रवाल ने जवाब किया कि कई राज्यों ने रिपोर्ट देने में देरी कर दी थी जिसकी वजह से बीते 24 घंटे में एकदम से मौत का आंकड़ा बढ़ गया है। हालांकि हम हर क्षेत्र को नजदीकी से देख रहे हैं। जहां भी एक मरीज होता है हम तुरंत उसको कंटेनमेंट कर देते हैं और स्वास्थ्य विभाग की टीम घर-घर जाकर लोगों की जांच करती है। उन्होंने कहा कि ये लड़ाई अकेले नहीं जीत सकते। इसके लिए लोगों का साथ चाहिए। हालांकि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने भी कोरोना वायरस के कम्यूनिटी ट्रांसमिशन की बात को नकार दिया है।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्द्धन ने मंगलवार को कहा कि भारत अब तक कोविड-19 के सामुदायिक प्रसार को रोकने में कामयाब रहा है। साथ ही हर्षवर्धन ने उम्मीद जतायी कि कोरोना वायरस संकट के कारण लोगों की ‘आदत में जो बदलाव आया है’, वह इस महामारी की रोकथाम के बाद एक स्वस्थ समाज के लिए ‘नया सामान्य आचरण’ होगा। डॉ हर्षवर्द्धन ने कहा कि अगर भारतीय अपनी दिनचर्या में हाथ धोने, सांस संबंधी और पर्यावरण स्वच्छता की आदत को बरकरार रखते हैं, तो कोरोना वायरस संकट के समाप्त होने के बादभविष्य में जब देश महामारी के इस काल को देखेगा तो इन आदतों को वह ‘बुरे वक्त में मिला वरदान’ मान सकता है। लॉकडाउन के महत्व पर जोर देते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अर्थव्यवस्था की तरह ही स्वास्थ्य पर भी पूरा ध्यान देने की जरूरत है।

सोमवार से शराब की बिक्री शुरू होने के बाद इसकी खरीद को लेकर उमड़ी भीड और सामाजिक नियमों के उल्लंघन पर डॉक्टर हर्षवर्धन ने कहा कि हमें हर फैसले पर निष्पक्षता से विचार करना होगा और उसके लागू होने से पहले ही इसके असर का अंदाजा लगाना होगा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि कोविड-19 के मामलों में बढ़ोत्तरी न हो।

Comments
Loading...
error: Content is protected !!