आदि से अंत तक

0 217

- Advertisement -

हर एक चीज जो इस अस्तित्व में है उसका एक आरम्भ है और एक अंत है । हर चीज जो शुरू होती है आगे जाकर कहीं न कहीं समाप्त होती है। इस संसार में कुछ भी स्थायी नहीं है, कुछ भी स्थिर नहीं है और कुछ भी निश्चित नहीं है, ठीक इसी प्रकार इस पृथ्वी पर मनुष्य का जीवन भी स्थायी, स्थिर और निश्चित नहीं है। जब परमेश्वर ने प्रथम मनुष्य आदम को इस मिट्टी से रचा और अंततः उससे कहा , ”और तू मिट्टी तो है और फिर मिट्टी में मिल जायेगा ‘। (उत्त्पत्ति 3:19) आज इस अनिश्चिता के जीवन में यदि कोई स्थायी और निश्चित है वो है स्वर्ग और पृथ्वी का कर्ता परमेश्वर ,बाइबिल कहती है कि परमेश्वर अल्फा और ओमेगा है ,पहला और अंतिम है, आदि और अंत है । (प्रकाशित वाक्य 22:13), वह अनादि परमेश्वर है। यूहन्ना 1:1 के अनुसार  आदि में परमेश्वर था, उत्पत्ति 1:1 भी इस बात कि पुष्टि करती है आदि  में परमेश्वर था । उसने आदि में आकाश और पृथ्वी कि सृष्टि की,इस महान परमेश्वर को जानना मनुष्य जाति के लिए बेहद आवश्यक है । पवित्र शास्त्र बाइबिल इस महान परमेश्वर के विषय में बहुत कुछ बताती है :-

१. युगों का परमेश्वर (God of ages):-

बाइबिल बताती है कि परमेश्वर युगों का परमेश्वर है । परमेश्वर के महान कार्य मानव कुल के हर युग में देखा जा  सकता है । प्रकाशित वाक्य 1:4 कहती है कि ….,”जो है, जो था और जो आनेवाला है । यह वचन इस सच्चाई को पुष्ट करती है कि वह भूतकाल का परमेश्वर था, वह वर्तमान का परमेश्वर है और वह भविष्य का परमेश्वर भी  है । वह इस्राएल का परमेश्वर था, वह अब्राहम , इसहाक और याकूब का परमेश्वर था । इन तीनो पीढ़ियों में और इस्राएल के अन्य सभी पीढ़ियों में भी परमेश्वर के महान कार्यों को देख सकते हैं । युगों के इस महान परमेश्वर मनुष्य की जरुरत कल भी थी, आज भी है, हमेशा रहेगी ।

प्रभु के प्रिय लोगों, युगों का यह परमेश्वर आपके जीवन की सबसे बड़ी जरुरत है । परमेश्वर महान है जिसने आपको अब तक चलाया, अभी भी चला रहा है और आगे भी चलाता रहेगा । इस परमेश्वर को और करीब से जाने, उसकी इच्छा को पहचाने, उसके वचनो पर चलें और उससे बातें करें। युगों का परमेश्वर आपकी सहायता करेगा।

2. अनंत काल का परमेश्वर (God of Eternity):-

 बाइबिल बताती है कि परमेश्वर अनंत काल का परमेश्वर है। यशायाह 9:6 कहती है कि उसका नाम अनंत काल का पिता कहलायेगा। यशायाह 40:28 के अनुसार यहोवा सनातन का परमेश्वर है। भजन 90:2 कहती है, ”…..अनादिकाल से अनंतकाल तक तू ही परमेश्वर है, इन पदों से यह स्पष्ट होता है कि हमारा परमेश्वर अनंत काल का प्रभु है। नए नियम का, विशेषकर सुसमाचारों का मुख्य सन्देश अनंत जीवन या अनंत काल का जीवन है। यीशु ने गलील में जब प्रचार करना शुरू किया, उसका पहला विषय भी स्वर्ग राज्य के बारे में था; ”मन फिराओ क्योंकि स्वर्ग का राज्य निकट आ चूका है’ मत्ती 4:17। यीशु ने यूहन्ना 3:16 में कहा कि जो कोई यीशु पर विश्वास करेगा वह अनंत जीवन प्राप्त करेगा। अनंत जीवन का वरदान केवल यीशु मसीह में है।

प्रिय जनों,  इस बात को हमे पकडे रहना बहुत ही आवश्यक है कि अनंतकाल का परमेश्वर हमारे साथ है, जिसने अपनी स्वर्गीय महिमा उसके पुत्र यीशु  के द्वारा हम पर प्रगट की है। भले ही इस अस्थायी संसार में आप दुःख और निराशा के साथ जीवन बिताते हैं पर एक बात को हमेशा याद रखें इस संसार के दुखों और कष्टों से परे एक अनंत वास में ले जाने के लिए हमारा प्रभु यीशु जल्द ही आनेवाला है। हमारे अंदर यह अनंत आशा दिन प्रतिदिन बढ़ता जाये और हम हरदम उसके आगमन के लिए तैयार रहें। मसीह में मेरे भाइयों और बहनो आपके लिए एक अनंत काल का राज्य है। अनंत काल का परमेश्वर आपको उस राज्य के लिए बुला रहा है।

3. अपरिवर्तन का परमेश्वर (Unchanging God): –

प्रतिदिन बदलते हुए इस संसार में मनुष्य को आज एक ऐसे परमेश्वर की जरुरत है जो कभी नहीं बदलता है। पवित्रशास्त्र बाइबिल बताती है कि परमेश्वर अपरिवर्तनशील है अर्थात वह कभी भी नहीं बदलता है, ।इब्रानियों 13:8 कहती है कि यीशु मसीह आज, कल और युगानयुग एक सामान है। परमेश्वर के वचन भी अटल है और कभी नहीं टलती है। वायदा देकर उससे मुकरने वाला नहीं है हमारा परमेश्वर। अब्राहम को परमेश्वर ने प्रतिज्ञा दी , ”मैं तुमसे एक बड़ी जाति  बनाऊंगा उत्पत्ति 12:2। इस प्रतिज्ञा को परमेश्वर ने बड़े विश्वासयोग्यता से पूरा किया , यह प्रतिज्ञा अब्राहम को उस समय मिला जब अब्राहम के पास एक भी संतान नहीं था। प्रिय मित्रों, कभी न बदलने वाला और प्रतिज्ञा को पूरा करने वाला परमेश्वर सच्चा है और वह आज भी जीवित है। इसलिए आपके जीवन में परमेश्वर के प्रतिज्ञाओं के लिए धन्यवाद दे। आपके जीवन की परिस्थितियां भले ही प्रतिकूल हो सकती है परन्तु विश्वास करें सब कुछ यीशु के नियंत्रण में है।

गलील के काना के उस विवाह भवन में जब यीशु मसीह ने अपना पहला आश्चर्यकर्म किया तो साधारण पानी दाखरस में बदल गया , स्वादहीन पानी स्वादिष्ट हो गया, विश्वास न करने वाले लोग विश्वास करने लगे, महिमारहित लोग परमेश्वर के महिमा को देख पाए। एक सच्चाई जो पवित्र आत्मा ने मुझे इस भाग से सिखाया है वह यह है कि ”यीशु कभी बदलता नहीं परन्तु यीशु जीवन और परिस्थितियां को जरूर बदल देता है।’’ प्रभु के प्रिय लोगों, यीशु को आपके जीवन में काम कर देने दे। यीशु आपके जीवन के कुछ परिस्थितियों को बदलना चाहता है। बातें जो साधारण अवस्था में है यीशु उन्हें असाधारण की ओर ले जाना चाहता है। कुछ कड़ुवे अनुभवों का स्वाद बदलकर अच्छे अनुभव में ले जाना चाहता है। अपरिवर्तनशील परमेश्वर पर विश्वास करें और जीवन में परिवर्तन को देखें।

 मसीह में प्रिय जनो,

हमारा  परमेश्वर अद्भुत है । वह सर्वव्यापी, सर्वज्ञानी और सर्वशक्तिमान परमेश्वर है। जो आदि में था और अंत तक रहेगा, जो युगों का परमेश्वर हैं जो अपरिवर्तनशील और जो अनंत काल का प्रभु है। यह महान परमेश्वर आपको प्यार करता है। आपकी चिंता कर आपकी लिए सुन्दर उपाय करता है। उसकी योजना आपके जीवन में हानि के लिए नहीं है परन्तु कुशल के लिए है।

क्या आज आप चिंतित हैं कि आपका या आपके बच्चों का भविष्य क्या होगा? आपका कामकाज कैसे बढ़ेगा? आपकी सेवकाई में आगे क्या होगा? क्या आप ऐसा कहते हैं, हे प्रभु, विश्वास के साथ यह मैंने शुरू किया है अब आगे क्या होगा? प्रियों इस लेख के द्वारा मै आपको प्रभु में उत्साहित करना चाहता हूँ कि परमेश्वर आदि से अंत तक आपके साथ है। जो आपने  विश्वास के साथ शुरू किया है उसे प्रभु आगे लेकर जायेगा। कभी न बदलने वाला यीशु आपके जीवन और हर हालातों  को बदल देगा।  अनंत काल का परमेश्वर  आपको अनंत महिमा और अनंत जीवन देकर  हमेशा के लिए अपने गले से लगाएगा । आमीन

मारानाथा

Comments
Loading...
error: Content is protected !!