आशंकाओं के बीच विश्व की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की शुरू हुई कवायद

0 6

- Advertisement -

BY MANOJ KUMAR

अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए विश्व के देशों ने कोशिशें शुरू कर दी हैं। बर्लिन में बुधवार को जहां छोटी दुकानें खुलीं वहीं फ्रांस में मैकडोनाल्ड्स चेन के बाहर खाना घर ले जाने वालों की लंबी लाइनें देखीं गई। डेनमार्क और ऑस्टि्रया में भी प्रतिबंधों को कम किया जा रहा है, लेकिन कुछ श्रमिकों और ग्राहकों द्वारा व्यक्त की गई शंका से ऐसा लगता है कि हालात सामान्य होने में लंबा वक्त लगेगा। महामारी के हॉटस्पॉट इटली, स्पेन, चीन और न्यूयॉर्क में प्रतिदिन होने वाले मौतों की संख्या में कमी आने के साथ ही लॉकडाउन खत्म करने की मांग बढ़ने लगी है।

लॉकडाउन के चलते हालांकि लाखों लोग नौकरी खो चुके हैं, लेकिन जहां पर व्यवसायों को छूट दी गई वहां पर लोग कुछ सवाल भी उठा रहे हैं। जॉर्जिया में जिम और सैलून को इस हफ्ते से फिर से खोलने की घोषणा की गई, लेकिन एक जिम के मालिक ने कहा कि ऐसा करना लापरवाही होगी। स्वास्थ्य अधिकारियों ने भी चेतावनी दी है कि स्टे एट होम का आदेश वापस लेने से संक्रमण के दूसरे दौर की शुरुआत हो सकती है। उधर, ऑस्ट्रेलिया के सिडनी का बांडी बीच अगले सप्ताह से फिर से खुल जाएगा। वहीं अमेरिका में टेनेसी, पश्चिम वर्जीनिया और कोलोराडो सहित कुछ प्रांतों ने आने वाले दिनों में लॉकडाउन में चरणों में छूट देने का एलान किया है।

फ्रांस में पिछले चौबीस घंटे में 531 लोगों की मौत

11 मई से प्रतिबंधों में ढील देने की तैयारी कर रहे फ्रांस में पिछले चौबीस घंटों में 531 लोगों की मौत हुई। अब तक वहां 20,796 लोगों की मौत हो चुकी। संक्रमण के नए और गंभीर मामलों में कमी आ रही है, जो यह दर्शाता है कि लॉकडाउन का सकारात्मक असर हो रहा है। उधर, लॉकडाउन के कारण उद्योग-धंधे बंद होने से आधे से ज्यादा निजी कर्मचारी बेरोजगार हो गए हैं। नियोक्ताओं द्वारा छुट्टी पर भेजे जाने के बाद इन्हें सरकार द्वारा शुरू की गई सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रम का लाभ दिया जा रहा है। इसके तहत इन्हें मिलने वाल 84 फीसद वेतन का भुगतान किया जाता है। अब तक आठ लाख बीस हजार नियोक्ता इस कार्यक्रम के लिए आवेदन कर चुके हैं।

पीएम जॉनसन के खिलाफ जांच की मांग

कोरोना महामारी से निपटने में ढिलाई का आरोप झेल रहे प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के खिलाफ जांच की मांग की गई है। लिबरल डेमोक्रेट्स के कार्यकारी नेता एड डेवी ने कहा कि इस महामारी के खत्म होने के बाद इस पूरे मामले की स्वतंत्र जांच होनी चाहिए। अगर ऐसा होता है तो निश्चित तौर पर कुछ चौंकाने वाली जानकारियां सामने आएंगी। विपक्षी लेबर पार्टी के कीर स्टारमर ने कहा कि महामारी से निपटने में सरकार ने तत्परता नहीं दिखाई।

चीन में थमी नहीं संक्रमण की रफ्तार

रूस की सीमा से सटे हेलोनजियांग प्रांत में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए कुछ नए प्रतिबंध लगाए गए हैं। प्रांतीय राजधानी हार्बिन ने गैर स्थानीय लोगों पर आवासीय क्षेत्रों में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है। हार्बिन में मंगलवार को घरेलू संक्रमण के सात नए मामले आए। तीन ऐसे लोग भी संक्रमित हैं जो रूस से आए हैं। इससे पहले हार्बिन में आने वाले लोगों को 28 दिनों तक क्वारंटाइन में रहने और दो न्यूक्लिक एसिड टेस्ट और एंटीबॉडी टेस्ट का निर्देश दिया जा चुका है।

यूरोप में मृतकों की संख्या 1.10 लाख से पार महामारी से यूरोप में मरने वालों का आंकड़ा 1,10,192 हो गया है। वहीं महाद्वीप में संक्रमण के अभी तक 1,246,840 मामले दर्ज किए गए हैं। महामारी से यूरोप सबसे ज्यादा प्रभावित है। इटली में 24,648, स्पेन में 21,717, फ्रांस में 20,796 और ब्रिटेन में 17,337 लोगों की मौत हो चुकी है।

स्पेन में पिछले चौबीस घंटे में 435 लोगों की मौत

स्पेन में पिछले चौबीस घंटे में 435 लोगों की मौत हुई है। इस तरह वहां मृतकों की 21,717 हो गई । अमेरिका और इटली के बाद स्पेन सर्वाधिक प्रभावित है। सोमवार को स्पेन में 399 लोगों की मौत हुई थी, जो चार सप्ताह में सबसे कम थी। उधर, प्रतिदिन होने वाली मौतों की संख्या 500 से नीचे आने के बाद मैड्रिड के एक अस्थायी मुर्दा घर को बंद कर दिया गया है। वहीं प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज ने बुधवार को संसद में कहा कि मई के दूसरे सप्ताह से लॉकडाउन में कुछ छूट दी जा सकती है।

Comments
Loading...
error: Content is protected !!