अब तक 14 हजार 229 मामले : गृह मंत्रालय ने कहा- राज्य अपने यहां रहने वाले रोहिंग्या मुसलमानों की जांच करें, यह बड़ी संख्या में मरकज में शामिल हुए थे

0 13

- Advertisement -

BY MANOJ KUMAR

नई दिल्ली : कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों से अपने यहां रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों की स्क्रीनिंग करने के लिए कहा है। इस संबंध में एक चिठ्ठी लिखी गई है। इसमें कहा गया है कि बड़ी संख्या में रोहिंग्या भी तब्लीगी जमात के मरकज में शामिल हुए थे। ऐसे में इनकी जांच जरूरी है। गृह मंत्रालय ने नई दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, पंजाब और हरियाणा की सरकारों से इनकी लोकेशन भी साझा की है। इस बीच, देश में कोरोनावायरस संक्रमितों की संख्या 14 हजार 229 पहुंच गई है जबकि मृतकों का आंकड़ा 487 है। केरल में शुक्रवार को सिर्फ एक कोरोना पॉजिटिव मिला जबकि सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में 34 नए मामले सामने आए।

यहां संक्रमितों की संख्या 3 हजार 236 है जबकि केरल में 395 मरीज हैं। यहां शुक्रवार को 10 और मरीज ठीक हुए। यहां संक्रमितों के ठीक होने की दर करीब 65 फीसदी है। गुजरात में शुक्रवार को 170, मध्य प्रदेश में 146, राजस्थान में 98, दिल्ली में 67, तमिलनाडु में 56, कर्नाटक में 44, आंध्रप्रदेश में 38, महाराष्ट्र में 34, पश्चिम बंगाल में 24 जबकि अंडमान-निकोबार में 1 मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

देश में 1 हजार 766 कोरोना मरीज ठीक हुए: स्वास्थ्य मंत्रालय

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक, देश में अब तक 13 हजार 835 कोरोना पॉजिटिव मिल चुके हैं। इनमें 11 हजार 616 मरीजों का इलाज चल रहा है जबकि 1 हजार 766 ठीक हो चुके हैं। अब तक 452 मौतें हुई हैं।

चीन से आई 63 हजार पीपीई किट तय मानकों के मुताबिक नहीं पाई गईं

सरकार के मंत्रालयों की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में शुक्रवार को बताया गया कि मई तक देश में ही 10 लाख रैपिड टेस्ट किट बना ली जाएंगी। एंटीवायरल ड्रग और वैक्सीन पर भी काम हो रहा है।
पीपीई और वेंटिलेंटर्स के लिए भी स्वेदशी डिजाइन तैयार किया जा रहा है। एक दिन पहले चीन से आई 5 लाख रैपिड टेस्टिंग किट राज्यों को सौंप दी गई हैं। हालांकि, स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि चीन से आई 63 हजार पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (पीपीई) किट तय मानकों के मुताबिक नहीं पाई गईं।

आंध्र के मुख्यमंत्री ने रैपिड टेस्ट किट से कोरोना जांच कराई

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वायएस जगनमोहन रेड्डी ने शुक्रवार को दक्षिण कोरिया से आई रैपिड टेस्ट किट की मदद से अपना कोरोना टेस्ट कराया। उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई है। राज्य को ऐसी 1 लाख रैपिड टेस्ट किट्स मिली हैं।

सरकार की प्रेस कॉन्फ्रेंस की अहम बातें:-

भारत जल्द से जल्द वैक्सिन बनाने में जुटा है, लेकिन इसमें समय लगेगा। इम्यून बूस्टर डिवाइसेज पर काम रहे हैं। फार्मोस्यूटिकल और पारंपरिक दवाओं पर भी शोध में जुटे हैं।

हम कुछ असरकारी दवाओं पर भी काम करना चाहते हैं। जो दवा भारत में नहीं बन रहीं उन्हें भी देश में बनाने की योजना बना रहे हैं।

राज्य और जिला स्तर पर तैयारियों का आकलन कर रहे हैं। यह देख रहे हैं कि यह पर्याप्त हैं कि नहीं, अगर नहीं हैं तो इसमें सुधार कर रहे हैं।

लॉकडाउन से पहले डबलिंग रेट करीब 3 दिन था। यानी 3 दिन में संक्रमितों की संख्या दोगुनी हो रही थी। पिछले 7 दिन में यह दर 6.2 दिन हो गई है। 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में यह औसत डबलिंग रेट से भी कम है।

कोरोना अपडेट्स:-

महाराष्ट्र ने लॉकडाउन के दूसरे फेज में 20 अप्रैल से हॉटस्पॉट जोन को छोड़कर बाकी स्थानों पर कुछ सेवाएं शुरू करने का फैसला किया है। इसमें सभी तरह की स्वास्थ्य सेवाएं, कृषि, पशुपालन और बागवानी से जुड़ी सेवाएं, बैंक, एटीएम और ई-कॉमर्स कंपनियां शामिल हैं।
इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के मुताबिक, शुक्रवार रात 9 बजे तक कोरोना संक्रमण के लिए 3 लाख 18 हजार 449 व्यक्तियों के 3 लाख 35 हजार 123 सैम्पल की जांच की गई। अकेले शुक्रवार को 28 हजार 542 सैम्पल के टेस्ट हुए।
कोरोनावायरस को लेकर शुक्रवार को दिल्ली में ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स(जीओएम) की अहम बैठक हुई। इसमें कोविड-19 की रोकथाम और प्रबंधन को लेकर चर्चा हुई। स्वास्थ्य मंत्री ने एक बार फिर दोहराया कि इस वायरस से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग और आइसोलेशन ही सबसे असरदार हथियार है।

डीआरडीओ ने कॉन्टैक्टलेस सैनिटाइजर मशीन बनाई है और इसे अपने मुख्यालय में लगाया है। इसकी मदद से यहां आने वाले कर्मचारियों को सिर्फ 20 सेकेंड के भीतर ही सैनिटाइज किया जा रहा है। डीआरडीओ दूसरी एजेंसियों को भी यह मशीन देने के बारे में सोच रहा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने दिल्ली के लेफ्टिनेंट गवर्नर अनिल बैजल, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक की। उन्होंने कहा कि हमें लगातार शिकायतें मिल रही हैं कि कई अस्पतालों में गंभीर रूप से बीमार मरीजों का इलाज नहीं किया जा रहा है। मैंने सभी अस्पतालों के अधीक्षकों से यह तय करने को कहा है कि किसी भी बीमार मरीज को बिना इलाज अस्पताल से न लौटाया जाए।

सेना में संक्रमण के सिर्फ 8 मामले

सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने शुक्रवार को बताया कि सेना में अभी तक संक्रमण के सिर्फ 8 मामले आए हैं। इनमें से 2 डॉक्टर हैं। 1 नर्सिंग असिस्टेंट है, जबकि 4 अन्य लोग हैं, जिनकी सेहत में काफी सुधार है। लद्दाख का एक जवान पूरी तरह ठीक होकर ड्यूटी पर आ गया है।

Comments
Loading...
error: Content is protected !!