अब तक 1 लाख 42 हजार मौतें: 53 देशों में 3 हजार 336 भारतीय संक्रमित, कुवैत में सबसे ज्यादा 785 मरीज पॉजिटिव; न्यूयॉर्क में 15 मई तक लॉकडाउन बढ़ा

0 16

- Advertisement -

BY MANOJ KUMAR

वॉशिंगटन. कोरोनावायरस से दुनिया के अलग-अलग देशों में रह रहे भारतीय भी प्रभावित हैं। जानकारी के मुताबिक, 53 देश में 3 हजार 336 भारतीय इस वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। कुवैत में इनकी संख्या सबसे ज्यादा 785 है। इसके अलावा सिंगापुर में 634, कतर में 420, ईरान में 308, ओमान में 297, यूएई में 238, सऊदी अरब में 186, बहरीन में 135, इटली में 91, मलेशिया में 37, पुर्तगाल में 36, घाना में 29, अमेरिका में 24, स्विटजरलैंड में 15 और फ्रांस में 13 भारतीय इससे संक्रमित हैं। इधर, न्यूयॉर्क में 15 मई तक लॉकडाउन रहेगा। गवर्नर एंड्रयू कूमो ने गुरुवार को यह जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि हमने कोरोना जैसै राक्षस पर काबू पा लिया है। संक्रमण की दर में गिरावट देखी जा रही है। इसके बावजूद हम एहतियात बरतेंगे और वायरस न फैले इसलिए कड़ाई से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाएगा। कूमो ने कहा कि अकेले न्यूयॉर्क में कैलिफोर्निया, फ्लोरिडा और मिशीगन से ज्यादा कोरोना टेस्ट किए गए हैं। हमने बीते एक महीने में करीब 5 लाख टेस्ट किए हैं। इस वायरस से अब तक एक लाख 42 हजार से ज्यादा की मौत हो चुकी है। राहत की बात ये कि इसी दौरान पांच लाख 39 हजार से ज्यादा मरीज स्वस्थ भी हुए। वहीं, यूरोप में सबसे ज्यादा प्रभावित देश इटली, स्पेन और फ्रांस हैं। महाद्वीप में अब तक 90 हजार लोगों की जान गई है, जो कुल मौतों का 65% है। यहां सबसे ज्यादा मौतें इटली (21 हजार 645) में हुई। जबकि संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले स्पेन (1 लाख 82 हजार 856) में हैं।

ब्रिटेन में लॉकडाउन की मियाद 3 हफ्ते और बढ़ी

ब्रिटेन में कोरोना पर काबू पाने के लिए सरकार ने लॉकडाउन की मियाद तीन हफ्ते और बढ़ा दी है। यहां 25 दिन पहले लॉकडाउन का ऐलान किया गया था। इसमें से 21 दिन तो प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन अस्पताल और आइसोलेशन में ही रहे। फिलहाल वे स्वस्थ हो रहे हैं। देश में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 लाख से ज्यादा हो गई है। यहां 3 लाख 27 हजार 608 लोगों के कोरोना टेस्ट हुए। इसमें से 1 लाख 3 हजार से ज्यादा पॉजिटिव पाए गए हैं। यूके के अस्पतालों में अब तक 13 हजार 729 लोगों ने इस वाय़रस की वजह से दम तोड़ा है।

अमेरिका वायरस का पता लगाने में जुटा: पॉम्पियो

अमेरिका समेत कई देश कोरोना संक्रमण फैलने के लिए चीन को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। इस बीच, अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने चीन के शीर्ष राजनयिक से फोन पर बात की। पॉम्पियो ने चीन से कोरोनावायरस की उत्पत्ति और उसके फैलने से जुड़ी जानकारी देने में पारदर्शिता बरतने की मांग की है। पॉम्पियो के मुताबिक, चीन कह रहा है कि वह सहयोग करना चाहता है। इसका सबसे अच्छा तरीका यही हो सकता है कि वह दुनिया के वैज्ञानिकों के लिए अपने दरवाजे खोल दे। ताकि वह यह पता लगा सकें कि आखिर यह वायरस कैसे अस्तित्व में आया और कैसे इसके फैलने की शुरुआत हुई।

रूस में गुरुवार को 3 हजार से ज्यादा नए केस

रूस में भी कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। गुरुवार को यहां 3 हजार 448 नए मामले सामने आए। एक दिन पहले यहां 3 हजार 388 नए मरीज मिले थे। इसके साथ ही देश में संक्रमितों की संख्या 27 हजार 938 हो गई है। बीते 24 घंटे में यहां 34 लोगों की मौत हुई है। इस बीच, रूस ने कहा कि वे अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की मदद की पेशकश को मंजूर करेंगे। ट्रम्प ने रूस में वेंटिलेटर भेजने को कहा था। इससे पहले, रूस ने राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन और ट्रम्प के बीच हुई बातचीत के बाद अमेरिका को वेंटिलेटर के साथ प्रोटेक्टिव सूट भेजे थे।

Comments
Loading...
error: Content is protected !!