Good Friday 2019 : जिस दिन यीशु को लटकाया गया था सूली पर, उस ‘फ्राइडे’ को ‘गुड’ क्यों कहते हैं?

0 136

- Advertisement -

नई दिल्ली। आज के ही दिन प्रभु ईसा मसीह अपने अनुयायियों के कल्याण के लिए सूली पर चढ़ गए थे। ‘गुड फ्राइडे’ ईसाईयों के लिए प्रेम और क्षमा का दिन होता है। ईसा अपने अनुयायियों को अपने प्रति अपराध करने वालों को भी माफ करने का संदेश दे गए थे, इस बार यह पर्व 19 अप्रैल, शुक्रवार के दिन मनाया जाएगा, दरअसल ईसाई लोग इस दिन को शोक की तरह मनाते हैं, ऐसा इसलिए किया जाता है क्योंकि यही वो दिन था जिस दिन प्रभु ईसा मसीह को तमाम शारीरक यातनाएं देने के बाद सूली पर चढ़ाया गया था।

‘गुड फ्राइडे’ की शुरुआत 40 दिन पहले ‘गुड फ्राइडे’ की शुरुआत 40 दिन पहले ही हो जाती है। इस धर्म के लोग 40 दिन तक व्रत रखते हैं। ‘गुड फ्राइडे’ इन 40 दिनों की समाप्ति का दिन होता है। ईसाई पूरे 40 दिन तक संयम और व्रत का निर्वाहन कर अपनी आत्मा को शुद्ध करते हैं।

आत्मा के शुद्धीकरण का संदेश धर्म भी अपने मतावलंबियों को प्रेम और क्षमा के अलावा अपनी आत्मा के शुद्धीकरण का संदेश देता है। मान्यता है कि यीशु शुक्रवार से शनिवार तक कब्र में रहने के बाद पुनर्जीवित हो गए थे। ‘जूलियन कैलेंडर’ ‘गुड फ्राइडे ‘को ‘होली फ्राइडे’, ‘ब्लैक फ्राइडे’ या ‘ग्रेट फ्राइडे’ भी कहते हैं। दो भिन्न वर्गों के अनुसार ‘गुड फ्राइडे’ का अनुमानित वर्ष AD 33 है, जबकि आइजक न्यूटन ने जो ‘जूलियन कैलेंडर’ और चांद के आकार के आधार पर जो गणना की है कि वह वर्ष मूलतः AD 34 है।

‘गुड फ्राइडे’ को ‘गुड’ क्यों कहते हैं? अब सवाल उठाता है कि अगर इस दिन यीशु को सूली पर लटकाया गया था तो ये दिन Good क्यों है तो इसके पीछे एक खास वजह है, दरअसल ईसाई धर्म ग्रंथों के अनुसार प्रभु यीशु को बिना कोई अपराध के उन्हें कठोर से कठोर सजा देते हुए सूली पर लटका दिया गया था। ईसा मसीह ने लोगों की भलाई के लिए अपनी जान दी थी मान्‍यता है कि ईसा मसीह ने लोगों की भलाई के लिए अपनी जान दी थी, निर्दोष होते हुए भी यीशु ने अपने हत्यारो का सजा देने बजाय प्रभु से इनको माफ करने की प्रार्थना की थी इसलिए इस दिन को ‘गुड’ कहकर संबोधित किया जाता है और इत्तफाक से जिस दिन ईसा मसीह को सूली पर लटकाया गया था उस दिन ‘फ्राइडे’ था, तभी से इस दिन को ‘गुड फ्राइडे’ कहा जाता है। सूली पर लटकाए जाने के तीन दिन बाद रविवार को ईसा मसीह फिर से जीवित हो उठे थे, इस दिन को ‘ईस्टर संडे’ कहते है।

Comments
Loading...
error: Content is protected !!